BREAKING Crime UP देश पंजाब बिहार राजनीती राज्य होम

आक्रोश में किसान ऑर्डिनेंस बिलों के विरोध में तीन हाईवे किये जाम, अमृतसर जालंधर का संपर्क टूटा

आक्रोश में किसान ऑर्डिनेंस बिलों के विरोध में तीन हाईवे किये जाम

अमृतसर जालंधर का संपर्क टूटा, ब्यास दरिया पर तीनों हाईवे ब्लॉक

14 सितंबर : अमृतसर ब्यास गुरदर्शन सिंह प्रिंस

गत दिनों किसानों की तरफ से किए गए ऐलान के अनुसार 14 सितंबर को पार्लिमेंट में शुरू हो रहे ईजलास में 11 ऑर्डिनेंस समेत 23 बिल पास किए जाएंगे। जिन्हें सूची बंद कर के पहले दिन से ही पेश कर दिया जाएगा, उक्त विचार किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के सुबह जरनल सकतर सरवन सिंह पंढेर ने ब्यास दरिया हाईवे जाम करने के मौके पत्रकारों से बातचीत करते कहे। बता दे कि सोमवार करीब दोपहर 1:00 बजे किसान मजदूर संघर्ष कमेटी की अगुवाई में सैकड़ों किसान ब्यास दरिया पुल पर पहुंचे यहां पर उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरना लगा दिया।जिस वजह से अमृतसर से दिल्ली मुख्य मार्ग पूरन तौर पर ब्लॉक हो गया और सैकड़ों यात्री इस धरने की वजह से परेशान होते हुए दिखाई दिए।पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान जनरल सकतर सरवन सिंह, संगठन स्कतर सुखविंदर सिंह, दफ्तर सकतर गुरबचन सिंह, हरपरीत सिंह और हरिके पतन पुल से सुबह प्रधान सतनाम सिंह पन्नू, जसबीर सिंह, गुरलाल सिंह पंडोरी, हरगोविंदपुर पुल से सविंदर सिंह ने कहा कि 14 सितंबर का दिन सांझे संघर्ष को समर्पित करते हूए देशव्यापी आंदोलन की वह हिमायत करते हैं।

उन्होंने कहा कि पंजाब और देश की खेती को तबाह होने से बचाना होगा और कारपोरेट पर कब्जा नहीं होने देना चाहिए, आम जनता का आर्थिक पक्ष से उजाड़ा नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि करोना की आड़ में केंद्र एवं पंजाब सरकार निजी करण में तेजी कर रही है।उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि डॉ आहलूवालिया की रिपोर्ट रद्द की जाए, सरकार एक नया ऑर्डिनेंस लेकर आए।जिसमें कोई भी व्यापारी समर्थन मूल्य से कम रेट में फसल ना खरीद सके अगर कोई कम रेट में फसल खरीदता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।इसके अलावा 23 फसलों के भाव डॉक्टर स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट के अनुसार दिए जाएं, सभी फसलों की खरीदारी की सरकारी गारंटी हो, बासमती ट्रेडिंग कारपोरेशन बनाकर केंद्र सरकार बासमती 1121 का 5500/- सो रुपए मूल्य दे। इस मौके जिला प्रधान लखविंदर सिंह, जरमनजीत सिंह, दयाल सिंह, हरविंदर सिंह, इकबाल सिंह, अमरदीप सिंह गोपी, सकतर सिंह कोटला, अजीत सिंह, सतनाम सिंह, रविंदर सिंह, मुख्तार सिंह, लखविंदर सिंह, कुलवंत सिंह, गुरदेव सिंह, कुलवंत सिंह कक्कड़ आदि ने संबोधित किया।
धरने की वजह से सैकड़ों वाहन नेशनल हाईवे में कतार के रूप में जमा हो गए और यात्रियों को गहरी परेशानी का सामना करना पड़ा पत्रकारों से बातचीत के दौरान यात्री परमजीत कौर, रविंद्र सिंह, सतनाम सिंह ने कहा कि सरकार को चाहिए कि ऐसी स्थिति ना बने कि लोगों को परेशान होना पड़े।उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए था कि अगर किसानों की तरफ से पहले से ऐलान किया गया था कि हम लोग हाईवे जाम करेंगे तो सरकार को पहले से उनके साथ बैठकर बातचीत कर लेना चाहिए था ताकि आज लोग परेशान ना होते।

फोटो कैप्शन : ब्यास दरिया पर डरना लगाकर बैठे सैकड़ों किसानों की तस्वीर, हाजिर पुलिस टीम, एवंम ब्लॉक किए गए रास्ते।